इंदौर में मौत पर पर्दा..., कोरोना संक्रमण काल में अघोषित 250 मौतों पर प्रश्नचिन्ह ! - Sri Narada News

इंदौर में मौत पर पर्दा..., कोरोना संक्रमण काल में अघोषित 250 मौतों पर प्रश्नचिन्ह !

Share This

इन्दौर। सूचना का अधिकार आंदोलन के संयोजक अजय दुबे ने आरोप लगाया कि कोरोनाकाल में इंदौर में 250 से अधिक कोरोना मरीजों की मौत को छुपाया गया है। संस्था ने राज्य शासन से मांग की है कि वह ऐसी तमाम मौतों की  नई कमेटी बनाकर डेथ ऑडिट करें और इसके लिये जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए।

सूचना का अधिकार आंदोलन ने इंदौर में आयोजित पत्रकारवार्ता में यह खुलासा किया। संस्था ने पिछले पखवाड़े ही इंदौर में कोरोना से हुई मौतों को विलंब से घोषित करने का मामला भी उजागर किया था। मंच के संयोजक अजय दुबे ने बताया कि मार्च अंत से दो दिन पूर्व तक इंदौर के एम.टी.एच. हाॅस्पिटल, एम.आर.टी.बी. हाॅस्पिटल और एम.आर.टी.बी. चेस्ट सेन्टर में इलाज के लिये भर्ती 250 से अधिक मरीजों की मृत्यु हो गई लेकिन इन्हें कोरोना मरीज या कोरोना संदिग्ध मरीज नहीं माना गया। उन्होंने ऐसे मृतकों की सूची सार्वजनिक की।

दुबे ने कहा कि इंदौर में कोरोना मरीजों और मृतकों के मामले में अमानवीय और आपराधिक रवैया अपनाते हुए पहले मौत के आंकड़े छुपाये और अब मौत पर पर्दा डाल दिया। स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाईड लाईन का उल्लंघन करते हुए इन हाॅस्पिटल में भर्ती मरीजों का कोरोना टेस्ट भी नहीं किया गया। दुबे ने कहा कि इंदौर के अन्य रेड कैटेगिरी के निजी हाॅस्पिटल में भी ऐसी मौतों को छुपाया गया है, जिन्हें जल्द उजागर किया जाएगा।

दुबे ने यह भी आरोप लगाया कि मेडिकल काॅलेज के अधीन इन तीनों हाॅस्पिटल में करीब 15 ब्राड डेथ भी हुई। इन मरीजों को गंभीर अवस्था में होने के बावजूद हाॅस्पिटल प्रबंधन और चिकित्सकों द्वारा एडमिट नहीं किया गया और इन्होंने हाॅस्पिटल की चैखट पर दम तोड़ दिया। दुबे ने इंदौर के नागरिकों से भी अपील की है कि कोरोना काल में मरीजों की मौत पर पर्दा डालने और मौत के कारणों को जबरदस्ती बदलवाने की खुलकर शिकायत करें । यह शिकायत ajay20dubey@gmail.com पर की जा सकती है।

सूचना का अधिकार आंदोलन के संयोजक अजय दुबे ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान को पुनः पत्र लिख कर इंदौर में कोरोना प्रबंधन पर प्रश्न उठाते हुये तत्काल प्रभाव से दखल की मांग की है। दुबे ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग, मध्यप्रदेश शासन डेथ ऑडिट के मामले में बहुत विलम्ब से चेता था। इंदौर सहित अनेक जिलों में जून माह में डेथ ऑडिट कमेटी गठित की गयी। दुबे ने कोरोना काल मे हुई मौतों के डेथ ऑडिट के लिए इंदौर के बाहर के चिकित्सक एवं अधिकारियों की नई कमेटी बनाकर कार्यवाही करने का अनुरोध किया। दुबे ने कहा कि कोरोना प्रबंधन में पारदर्शिता का अभाव है।

दुबे ने मुख्यमंत्री को सूचित करते हुए लिखा कि इंदौर के सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया के मीडिया में जारी बयान अनुसार कोविड हॉस्पिटल कोरोना डेथ के आंकड़े समय पर नही बताते हैं जो इंदौर प्रशासन को अक्षम साबित करता है।इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह और अन्य जिम्मेदार अधिकारियों को इंदौर से तत्काल हटाकर डेथ ऑडिट कराया जाए।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें