माननीय कलेक्टर द्वारा हमारा बैंक अकाउंट शासन के अधीन करके चंदा करवाने की विनती है| आख़िर मध्यप्रदेश की इज्ज़त का सवाल है, और हमारा मौका तैयार है| - Sri Narada News

माननीय कलेक्टर द्वारा हमारा बैंक अकाउंट शासन के अधीन करके चंदा करवाने की विनती है| आख़िर मध्यप्रदेश की इज्ज़त का सवाल है, और हमारा मौका तैयार है|

Share This

भोपाल। मध्य प्रदेश खेल और युवक कल्याण से पंजीकृत दिव्यांग जूडो ख़िलाड़ी कपिल परमार (६० किलो ) स्वाति शर्मा (५२ किलो) पूनम शर्मा ( विश्व ब्लाइंड जूडो लाइसेंस 63 किलो), तीनों के अभी तक नौ राष्ट्रीय स्वर्ण पदक (तीनों के तीन तीन) और चार अंतर्राष्ट्रीय स्वर्ण पदक (कपिल-1, स्वाति-1, पूनम-2) और पूनम के द्वारा दो एशियन चैंपियनशिप में कांस्य के साथ दृष्टिबाधित महिला विश्व जूडो रैंक में मध्य प्रदेश से पूनम 12 वे स्थान पर है| 

1. मध्यप्रदेश बन सकता है देश का पहला पैरालम्पिक जूडो प्रतिभागी

भारत से अभी तक पैरालम्पिक जूडो में प्रतिभागिता एकमात्र श्री मुनवर अंजार (लखनऊ) से ही रेफ़री के रूप में हो पाई है| देश के दिव्यांग के पास यह पहली बार मौका है कि कोई ख़िलाड़ी इस बड़ी प्रतियोगिता में क्वालीफाई करने की सोच भी सके| नेत्रहीन जूडो के सचिव प्रशिक्षक प्रवीण भटेले ने बताया कि आगामी जून तक  हमारा चार वर्षीय विशेष पैरालम्पिक प्रशिक्षण कार्यक्रम का समायोजन होगा| यह प्रशिक्षण केन्द्रित और पूर्व नियोजित कार्यक्रम वर्ष २०१७ से चल रहा है और हमारे दिव्यांग जूडो ख़िलाड़ी निरंतर अन्य देशों के खिलाड़ियों से ऱोज 2 घंटा ज्यादा व्यायाम कर रहे हैं| मध्य प्रदेश के दिव्यांग जूडो ख़िलाड़ीयों को यह मौका लाल घाटी के पहाड़ी इलाके के हॉस्टल में लगातार मिलकर घंटों दिन रात अभ्यास से मिला है| इन्होंने पारंपरिक भारतीय व्यायाम भोपाल के विभिन्न पहाड़ और स्थानों पर एक दुसरे की सहायता से किये हैं|

2 . पैरालम्पिक क्वालीफाई राउंड के लिए चयनित तीनों खिलाड़ियों को अंतर्राष्ट्रीय नियम अनुसार 15 अप्रैल तक प्रति ख़िलाड़ी लगभग दो लाख रहना खाना यात्रा फ़ीस भरनी है

IBSA वर्ल्ड जूडो ग्रैंड प्रिक्स २०२१ बाकू अजरबैजान (पैरालम्पिक क्वालीफाई)

23 से ३० मई २०२१ हेतु मध्यप्रदेश के तीनों ख़िलाड़ी मेहनत करके तीन सालों से राष्ट्रीय स्वर्ण ला रहे हैं, एवं इनको पैरालम्पिक क्वालीफाई का मौका मिला है|

कोच प्रवीण भटेले ने बताया कि लॉक डाउन की वजह से  ख़िलाड़ी अपने चयन पत्र के साथ अफ़सरों से मिल नहीं पा रहे हैं| हालाँकि चयन पत्र और आवेदन ऑनलाइन माध्यम इ मेल, ट्विटर, फेसबुक, इनस्त्रग्राम माध्यम से शासन को भेजे गए हैं| हमारे एन. जी. ओ. श्री ब्लिस मिशन फॉर पैरालम्पिक एंड ओलिंपिक की जिम्मेदारी अच्छे नार्मल और पैरा ख़िलाड़ी तैयार करने की है और हम सफल हुए| हमारा शासन दिव्यांग के लिए सहयोगी और  संवेदनशील है परन्तु लॉक डाउन की वजह से शासन से दिव्यांग खिलाड़ियों का संवाद स्थापित नहीं हो पा रहा| अतः हमारा बैंक अकाउंट शासन के अधीन करके जनसहयोग से चंदा करवाने की विनती है|

PLAYERS NAME ACCOUNT HOLDER NAME ACCOUNT NUMBER BANKS 

NAME BRANCH ADDRESS IFSC CODE

(1)POONAM SHARMA POONAM SHARMA 35940913681 STATE BANK OF INDIA J P HOSPITAL BHOPAL SBIN0030367

(2)SWATI SHARMA SWATI SHARMA 900910510001103 BANK OF INDIA GULMOHAR COLONY BHOPAL BKID0009009

(3)KAPIL PARMAR AMIT PARMAR 10851000005100 PUNJAB & SIND BANK SEHORE PSI80021085

कोच एवं ख़िलाड़ी ने मध्य प्रदेश सरकार और समाज के शुभचिंतको से निशक्तजन कल्याण में माननीय कलेक्टर साहब से भोपाल और सीहोर जिला स्तर पर जनसहयोग चंदा करवाने की गुहार लगाई है| खेल और युवा कल्याण के अधीन नस्तीबद्ध फाइलों में पूर्व के पदकों के आधार पर प्रोत्साहन राशि (ईनाम) इन खिलाड़ियों को प्रदान करके भी पैसे जमा करने की व्यवस्था की जा सकती है| वैसे ही पैसे कम पड़ेंगे और जनसहयोग के बावजूद ट्रेनिंग, डाइट, चिकित्सा, और शिक्षा ख़िलाड़ी और कोच को स्वयं देखनी होगी| जिसके लिए हम तैयार हैं|

अन्य बिंदु


“श्री ब्लिस मिशन फॉर पैरा एंड ब्राइट” के मुख्य प्रशिक्षक प्रवीण भटेले ने बताया कि पूनम जनवरी 2017 से खेल रहीं हैं और पैरालम्पिक 2021 के लिए 15 किलो वज़न बढ़ा चुकी हैं| पूनम खेलों के लिए तैयार हैं परन्तु हमें आधुनिक सोच और प्रतियोगिता की बहुत ज़रूरत है|

हमारी सभी प्रतियोगिता इंटरनेशनल जूडो फेडरेशन (IJF) अथवा इंटरनेशनल ब्लाइंड स्पोर्ट्स एसोसिएशन (IBSA) द्वारा विश्व स्तर पर खेली जाती हैं और इनके आधुनिक नाम ग्रैंड प्रिक्स और ग्रैंड स्लैम होते हैं| उन्होंने बताया कि हमारे दिव्यांग खिलाड़ियों को भविष्य की तैयारी के लिए हरेक प्रतियोगिता ज़रूरी है चाहे पैरालम्पिक टोक्यो के लिए अंक मिले न मिले अनुभव मिलना चाहिए जो निकट भविष्य में रंग दिखाएगा | इसी में अन्तर राष्ट्रीय पदक बटोरे जाए|


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें